India

केजरीवाल बोले- हाथरस मामले के दोषियों को फांसी पर लटका दो और ऐसी सजा दो कि…

नई दिल्लीः दिल्ली की सड़कों पर एक बार फिर 2012 जैसे हालात दिखाई दे रहे हैं. हाथरस मामले को लेकर दिल्ली के जंतर मंतर पर शुक्रवार (2 अक्टूबर) की शाम सैकड़ों लोग प्रदर्शन करने आए. इस प्रोटेस्ट में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) भी शामिल हुए. इस दौरान उन्होंने हाथरस मामले में दोषियों को फांसी की मांग की. 

केजरीवाल ने कहा, ‘हम दुख की घड़ी में यहां इकट्ठे हुए हैं, ईश्वर से कामना है कि वह हमारी बेटी की आत्मा को शांति दें.’ उन्होंने कहा, ‘पीड़िता के परिवार को इस वक्त सहानुभूति और सहायता की जरूरत है. उसके परिजनों को परेशान नहीं किया जाना चाहिए.’

केजरीवाल ने कहा, ‘ऐसा कानून बनना चाहिए ताकि हमारी बहू और बेटियां सुरक्षित महसूस करें. ऐसी घटना कहीं पर भी नहीं होनी चाहिए.’ मुख्यमंत्री बनने के बाद अरविंद केजरीवाल पहली बार किसी विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए. जंतर मंतर पर केजरीवाल के अलावा कई विपक्षी दलों ने प्रदर्शन किया. 

ये भी पढ़ें- हाथरस केस: पीड़िता के रात में ‘जबरन’ अंतिम संस्कार पर सवाल, केंद्रीय मंत्री ने साधी चुप्पी

अरविंद केजरीवाल ने आगे कहा, ‘उत्तर प्रदेश सरकार से हाथ जोड़कर विनती है कि जो दोषी हैं, उन लोगों को सख्त से सख्त सजा दी जाए, उनको जल्द से जल्द फांसी दिलवाई जाए. इतनी कठोर सजा मिलनी चाहिए कि भविष्य में कोई ऐसी हिम्मत ना कर सके.’ दिल्ली के मुख्यमंत्री ने यह भी कहा, ‘एक सवाल उठ रहा है कि हाथरस मामले के दोषियों को बचाने की कोशिश हो रही है ऐसा नहीं होना चाहिए. इस मामले में किसी तरह की राजनीति भी नहीं होनी चाहिए.’

उधर प्रियंका गांधी ने हाथरस मामले पर कहा, ‘पीड़ित परिवार को सरकार की कोई मदद नहीं मिली. उसका परिवार अकेला महसूस कर रहा होगा. हम राजनीतिक दबाव सरकार पर डालेंगे. हमारी बहन के साथ न्याय नहीं हुआ. हम अपनी बहन को न्याय दिलवाएंगे. जब तक उसे इंसाफ नहीं मिलेगा हम शांत नहीं बैठेंगे.’

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने हाथरस (Hathras) में गैंगरेप की पीड़िता के परिवार को प्रशासन द्वारा कथित तौर पर गांव से बाहर नहीं निकलने देने आरोप लगाया कि सच छिपाने के लिए उत्तर प्रदेश का प्रशासन ‘दरिंदगी’ पर उतर आया है.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘उप्र प्रशासन सच छिपाने के लिए दरिंदगी पर उतर चुका है. ना तो हमें, ना मीडिया को पीड़िता के परिवार को मिलने दिया और ना उन्हें बाहर आने दे रहे हैं, ऊपर से परिवारजनों के साथ मार-पीट और बर्बरता.’ 

कांग्रेस नेता ने कहा कि कोई भी भारतीय ऐसे बर्ताव का समर्थन नहीं कर सकता. उन्होंने एक खबर भी साझा की है जिसके अनुसार, पीड़िता परिवार के परिवार से जुड़े एक बच्चे ने बताया कि पुलिस-प्रशासन परिवार को गांव से बाहर नहीं निकलने दे रहा है.

Source link

Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: