Health

कोरोना वायरस आपकी आंखों को कैसे प्रभावित कर रहा है? इस तरह बच सकते हैं…

कोरोना वायरस हमारी आंखो में रेडनेस एवं उनमें सूजन पैदा कर रहा है. (फाइल फोटो)

Coronavirus effect on Eyes : नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. अमित गर्ग बताते हैं कि कोरोना वायरस हमारी आंखो में रेडनेस (आंखों का लाल हो जाना) एवं उनमें सूजन पैदा कर रहा है. अगर यह आंखों की बाहरी सतह पर है तो आमतौर पर दवाइयों के जरिये इसे ठीक किया जा सकता है, लेकिन अगर वह अंदर तक प्रवेश कर जा रहा हो तो वह रेटिना को भी प्रभावित कर रहा है.

नई दिल्‍ली : देशभर में कोरोना संक्रमण (Covid 19 Infection) की दूसरी लहर के तेजी से फैलने के बीच इससे बचाव के तौर-तरीकों को जानना बेहद जरूरी हो गया है. खासतौर पर संक्रमण के ज्‍यादा सक्रिय रूप से शरीर के अंदर प्रवेश करने को लेकर. यह देखने में आ रहा है कि कोरोना वायरस (Covid 19) शरीर के दूसरे अंगों के साथ-साथ हमारी आंखों को भी प्रभावित कर रहा है. कोविड 19 (Covid 19) हमारी आंखो में रेडनेस (आंखों का लाल हो जाना) एवं उनमें सूजन पैदा कर रहा है. यहां तक की यह आंखों के रेटिना तक को भी बुरी तरह प्रभावित कर रहा है. लिहाजा, हमें कोरोना वायरस से अपनी आखों को कैसे बचाना है और क्‍या-क्‍या सावधानियां बरतनी चाहिए, विशेषज्ञ से बातचीत के आधार पर आइये जाने हैं इस बारे में… दरअसल, कोरोना वायरस आंखों के माध्यम से फैल सकता है, जैसा की यह मुंह या नाक के माध्यम से होता है. किसी कोरोना संक्रमित से खांसी, छींक या बातचीत से वायरस मुंह या नाक के जरिये प्रवेश कर सकता है. संक्रमित के छींकने, खांसने या बोलने पर निकलने वाली बूंदें आपकी आंखों के माध्यम से भी आपके शरीर में प्रवेश कर सकती हैं. आप किसी चीज़ को छूने से और उन्‍हीं हाथों को आखों पर लगाने से भी संक्रमित हो सकते हैं. नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. अमित गर्ग बताते हैं कि कोरोना वायरस हमारी आंखो में रेडनेस (आंखों का लाल हो जाना) एवं उनमें सूजन पैदा कर रहा है. अगर यह आंखों की बाहरी सतह पर है तो आमतौर पर दवाइयों के जरिये इसे ठीक किया जा सकता है, लेकिन अगर वह अंदर तक प्रवेश कर जा रहा हो तो वह रेटिना को भी प्रभावित कर रहा है. जिससे कुछ एक मरीज की दृष्टि भी प्रभावित हुई है. हालांकि अभी बहुत कम ऐसे मामले देखने में आए हैं. डॉ. अमित कहते हैं कि सावधानी, बचाव के लिए लोग मास्‍क तो लगा रहे हैं, लेकिन आंखें खुली रहती हैं, यानि उन पर कोई प्रोटेक्‍शन नहीं रहता. इसलिए आखों पर चश्‍मा लगाकर रखें. साथ ही बार-बार आंखों पर हाथ लगाने से भी बचना चाहिए. चश्मा पहनने से बढ़ा सकते हैं आंखों की सुरक्षाकोरेक्टिव लेंस या धूप का चश्मा संक्रमित श्वसन बूंदों से आपकी आंखों को बचा सकता है, लेकिन वह 100 फीसदी सुरक्षा प्रदान नहीं करता, क्‍योंकि वायरस चश्मे की ऊपरी सतह के साथ ही ऊपर और नीचे से आपकी आंखों तक पहुंच सकता है. यदि आप एक बीमार रोगी या संभावित रूप से संक्रमित व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, तो चश्मा आपकी आंखों को मजबूत रक्षा प्रदान करता है. आंखों को रगड़ने से बचें ऐसा करने से आप पर संक्रमण का खतरा कम होगा. खुजली या अपनी आंख को रगड़ने, यहां तक ​​कि अपने चश्मे को एडजस्‍ट करने के लिए अपनी उंगलियों की बजाय टिशू का उपयोग करें. सूखी आंखें अधिक रगड़ का कारण बन सकती हैं, इसलिए अपनी आंखों के लिए दिनचर्या में मॉइस्चराइजिंग ड्रॉप्‍स डालना शामिल करें. यदि आपको किसी भी कारण से अपनी आंखों को छूना है, यहां तक ​​कि आंखों की दवा लेने के लिए भी तो कम से कम 20 सेकंड के लिए अपने हाथों को पहले साबुन और पानी से धोएं. आंखों को छूने के बाद उन्हें फिर से धो लें.
स्वच्छता और उचित दूरी का अभ्यास करें मास्‍क पहनिए. अपने हाथों को बार-बार धोएं. उन्हें कम से कम 20 सेकंड के लिए साबुन से साफ़ करें. किसी भी व्‍यक्ति से उचित दूरी बनाकर खड़े हों. अपनी नाक, मुंह और आंखों को छूने या रगड़ने से बचें.





https://hindi.news18.com/news/lifestyle/health-covid-19-how-corona-virus-affecting-your-eyes-can-be-saved-like-this-3580990.html

Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: