Sports

दुती चंद की फंडिग को लेकर आया ओडिशा सरकार का बयान, कहा-‘2015 से 4 करोड़ खर्च किए गए’

भुवनेश्वर/नई दिल्ली: ओडिशा सरकार ने खुलासा किया कि उसने 2015 से दुती चंद (Dutee Chand) को 4.09 करोड़ रूपये की वित्तीय सहायता प्रदान की है जबकि इस स्टार धाविका का कहना है कि इसमें एशियन गेम्स में मेडल जीतने की 3 करोड़ रूपये की प्राइज मनी भी शामिल है.

यह भी पढ़ें-दिग्गज पैरा बैडमिंटन प्लेयर रमेश टीकाराम का कारोना वायरस की वजह से निधन

राज्य सरकार के इस बयान से एक दिन पहले दुती ने उस विवाद को दबाने की कोशिश की थी जो उनके बीएमडब्ल्यू कार को बेचने के लिए रखने के बाद खड़ा हो गया था. दुती ने कहा था कि वो अपनी लग्जरी कार को ट्रेनिंग के लिए फंड जुटाने के लिये नहीं बेच रही है बल्कि इसलिए ऐसा कर रही हैं क्योंकि वह इस कार के रख रखाव का खर्च नहीं उठा सकती.

ओडिशा सरकार के खेल एवं युवा मामलों के विभाग के बयान के अनुसार, ‘दुती चंद को राज्य सरकार से (2015 के बाद) मुहैया कराया गया कुल वित्तीय सहयोग 4.09 करोड़ रूपये है.’

बयान के मुताबिक, ‘3 करोड़ एशियन गेम्स 2018 में जीते गए मेडल्स के लिए वित्तीय अनुदान, 2015-19 के दौरान 30 लाख रूपये ट्रेनिंग और वित्तीय सहयोग और टोक्यो ओलंपिक की तैयारियों की ट्रेनिंग के लिए 2 किस्तों में जारी किये गये 50 लाख रूपये.’

दुती से जब पीटीआई ने सरकार के बयान के बारे में पूछने के लिये संपर्क किया तो उन्होंने कहा, ‘मैं इतने साल तक सहयोग करने के लिये ओडिशा सरकार की ऋणी हूं, लेकिन ये 4 करोड़ रूपये सही चीज नहीं बता रहा है. हर कोई सोचना शुरू कर देगा कि दुती ने इतनी राशि खर्च की है.’

उन्होंने कहा, ‘3 करोड़ वो पुरस्कार राशि है जो ओडिशा सरकार ने मुझे 2018 एशियन गेम्स में 2 रजत सिल्वर मेडल जीतने के लिए दी थी. यह उसी तरह है जिस तरह पीवी सिंधू या किसी अन्य मेडल विनर को राज्य सरकार जैसे हरियाणा या पंजाब से मिलती है. इसे ट्रेनिंग के लिए वित्तीय सहायता के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए.’

ओडिशा सरकार ने यह भी कहा कि उसने दुती को ओडिशा खनन कारपोरेशन (ओएमसी) में ग्रुप ए स्तर का अधिकारी नियुक्त किया जिससे उसे अपनी ट्रेनिंग और वित्तीय प्रोत्साहन के लिए 29 लाख रूपये की राशि मिली. दुती ने सरकार के इस दावे पर भी आपत्ति व्यक्त करते हुए कहा कि इस राशि में उनका वेतन भी शामिल है.

उन्होंने कहा, ‘इस 29 लाख रूपये में मेरा वेतन भी शामिल है और मुझे नहीं पता कि यह ट्रेनिंग सहयोग के लिये कैसे है. मैं ओएमसी की कर्मचारी हूं और मुझे मेरा वेतन मिलेगा. मुझे ये पता करना होगा.’सरकार के बयान के अनुसार 24 साल की इस खिलाड़ी का हर महीने का वेतन 84,604 रूपये है जबकि बुधवार को दुती ने दावा किया था कि उसे 60,000 रूपये मिलते हैं.

ओडिशा सरकार के बयान के मुताबिक, ‘उनका हर महीने मौजूदा कुल वेतन 84,604 रूपये (जून 2020 का वेतन) है. उन्हें दफ्तर आने की जरूरत नहीं होती ताकि वो पूरा ध्यान ट्रेनिंग पर लगा सके. इसी वजह से ओएमसी में नियुक्ति के बाद दुती को कोई काम नहीं दिया गया.’ दुती ने इस पर कहा कि वह घर पर खाली नहीं बैठी थीं, वह देश के लिए मेडल जीतकर ला रही थीं और अपने नियोक्ता को गौरवान्वित कर रही थीं.

उन्होंने ये भी कहा, ‘जब मैं मेडल जीतती हूं तो मुझे लगता है कि मैं अपने नियोक्ता के लिए भी कुछ करती हूं. मैं उन्हें गौरवान्वित करती हूं. मैं घर पर खाली नहीं बैठी थी, ऐसा नहीं है कि मैंने मेडल जीतना बंद कर दिया है. कार्यालय में पेन और पेपर के इस्तेमाल के बजाय मैं ट्रेनिंग मैदानों और स्टेडियम पर मेहनत कर रही थी.’
(इनपुट-भाषा)

https://zeenews.india.com/hindi/sports/cricket/training-funds-row-ace-sprinter-dutee-chand-given-over-rs-4-crore-since-2015-says-odisha-govt/712828

Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: