India

महंगा पड़ गया रोड पर पिज्‍जा का खाली बॉक्‍स फेंकना, कूड़ा उठाने लौटकर आए 80 किलोमीटर

नई दिल्‍ली: कर्नाटक के मडिकेरी (Madikeri) शहर में पीएम मोदी की महत्वाकांक्षी योजना ‘स्वच्छ भारत मिशन’ (Swachh Bharat Mission) को धता बताने और साथ ही उसका समर्थन करने वाले लोगों से जुड़ा एक आदर्श मामला सामने आया है. यहां एक युवा कपल को रोड पर फेंके गए कूड़े को उठाने के लिए 80 किलोमीटर की यात्रा करनी पड़ी.

ये है मामला 
बैंगलोर मिरर (Bangalore Mirror) की रिपोर्ट के मुताबिक घटना 30 अक्टूबर की है. कोडागु टूरिज्म एसोसिएशन के महासचिव मदेटिरा थिमैया (Madetira Thimmaiah) ने घर आते समय दोपहर सवा दो बजे सड़क पर कचरा पड़ा हुआ देखा. दरअसल, वो क्षेत्र की सफाई को लेकर काफी प्रयास कर रहे हैं. ऐसे में सड़क पर पिज्‍जा के खाली बॉक्‍स देखकर उन्‍हें काफी बुरा लगा. क्‍योंकि 2 दिन पहले ही उन्‍होंने कडागडालु ग्राम पंचायत के सदस्यों की मदद से इस क्षेत्र की सफाई करवाई थी. 

फिर क्या था, उन्होंने डस्टबिन में डालने के लिए पिज्‍जा का खाली बॉक्‍स उठाया तो देखा कि उसमें उस कपल का नंबर है, जिन्‍होंने वो पिज्जा मंगवाया था और खाली बॉक्स सड़क पर फेंककर चलते बने थे. थिमैया ने तुरंत अपना मोबाइल निकालकर कपल को फोन किया. उन्होंने उनसे सड़क से कचरा उठाने का आग्रह किया. लेकिन फोन पर बात कर रहे व्‍यक्ति ने माफी मांगते हुए कहा कि वे कूर्ग से आगे निकल चुके हैं. 

ली पुलिस की मदद 
महासचिव ने बात को यहीं नहीं छोड़ा, उन्‍होंने वापस आकर कचरा उठाने के लिए कपल को मनाने के लिए स्थानीय पुलिस की मदद ली. लेकिन तब भी दोनों इसके लिए राजी नहीं हुए. आखिरकार एक सोशल मीडिया कैंपेन शुरू किया गया और जब इस कपल को कई कॉल आए तो दोनों शर्मिंदा हुए और उन्‍हें वो पिज्‍जा बॉक्‍स उठाने 80 किलोमीटर वापस आना पड़ा. 

ये भी पढ़ें: PM मोदी ने आखिरी चरण से पहले बिहार के लोगों को लिखा पत्र, कही ये बड़ी बातें…

इस घटना के बाद ट्विटर पर लोगों ने थिमैया के काम की खासी सराहना की. बता दें कि मदिकेरी कोडागु जिले का एक हिस्सा है, जो कि कूर्ग (Coorg) के नाम से मशहूर है और कर्नाटक का एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है. इसकी खूबसूरत पहाड़ियों पर घूमने के लिए देशभर से लोग आते हैं. 

LIVE TV

Source link

Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: