सचिन को बचाने पवार की सलाह: एनसीपी चीफ ने लियल मास्टर से कहा- अपनी फील्ड के अलावा कहीं बोलने से पहले सावधानी बरतें

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • किसान एजुकेशन | CELEBRITY REACTIONS | REHANNA | THUNBERG | साचिन तेन्दुलकर | SHARAD PAWAR | राकांपा प्रमुख ने कहा कि लिटिल मास्टर सचिन तेंदुलकर आइकॉन सचिन तेंदुलकर को किसानों के मुद्दों पर बोलते समय अधिक सावधानी बरतनी चाहिए

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबईएक मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

शरद पवार ने कहा, ‘प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी जैसे सीनियर नेता किसानों से बातचीत के लिए आगे आएं तो हल निकल सकता है।’ -फाइल फोटो।

किसानों के मुद्दे पर देशी-विदेशी सेलेब्रिटीज के बयानों को लेकर NCP प्रमुख शरद पवार ने सचिनंदुलकर को नसीहत दी है। उन्होंने कहा कि देश के सेलेब्रिटीज जो स्टैंड लेते हैं, उस पर बहुत से लोग तेजी से समझौता करते हैं। इसलिए मैं सचिनंदुलकर को सलाह दूंगा कि उन्हें किसी दूसरे फील्ड के बारे में बोलने से पहले सतर्क रहना चाहिए।

सचिनंदुलकर ने किसानों के मुद्दे पर सिंगर रिहाना, पृष्ठभूमि स्टार मिया खलीफा और एक्टिविस्ट ग्रेटा थानबर्ग के बयानों का जवाब सोशल मीडिया पर दिया था। इसमें सचिन ने देश के लोगों से एकजुट रहने की अपील की थी।

सचिन ने अपनी पोस्ट में क्या लिखा था?
सचिन ने लिखा था, ‘भारत की संप्रभुता से प्रतिबद्ध नहीं किया जा सकता है। बाहरी ताकतें दर्शक तो बन सकती हैं और नहीं हो सकती हैं। भारतीय अपने देश को समझते हैं और इसके हित में निर्णय कर सकते हैं। देश के तौर पर हमें एकजुट रहना चाहिए। ‘

सचिन को ट्रोल करने की कोशिश भी हुई
टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने भी इसी तरह का बयान दिया था। इसके बाद सचिन और विराट को ट्रोल करने की जमकर कोशिश की गई और उन्हें किसान आंदोलन के खिलाफ बताया गया। हालांकि, सचिन ने कहीं नहीं लिखा कि वे इस मुद्दे के पक्ष में या विरोध में हैं। उन्होंने कहा था कि भारत से जुड़े संवेदनशील मुद्दों पर देश के बाहर के लोगों को बयान देने से बचना चाहिए।

पवार बोले- पीएम आगे आओ तो हल निकल सकता है
किसान आंदोलन के मुद्दे पर शरण पवार ने शनिवार को कहा कि प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी जैसे सीनियर नेता किसानों से बातचीत के लिए आगे आएं तो हल निकल सकते हैं। अगर सीनियर लीडर पहल करते हैं तो किसान नेताओं को भी उनके साथ बैठना होगा।



%d bloggers like this: