India

सुशांत का मर्डर हुआ, पूर्व मैनेजर के पोस्‍टमार्टम में हुई 3 दिन की देरी, BJP नेता का आरोप

मुंबई: महाराष्ट्र से भाजपा सांसद नारायण राणे ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में पुलिस द्वारा प्राथमिकी दर्ज करने में ‘50 दिन से अधिक का विलंब’ किये जाने पर मंगलवार को सवाल उठाया. साथ ही, उन्होंने दिवंगत अभिनेता की पूर्व मैनेजर दिशा सालियान की मौत की भी जांच कराने की मांग की.

नारायण राणे ने कहा, ‘सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या नहीं की है. उनकी हत्या हुई है. महाराष्ट्र सरकार किसी को बचाने की कोशिश कर रही है. सरकार केस पर ध्यान नहीं दे रही.’

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सालियान की मौत आठ जून को हुई थी लेकिन उनका पोस्टमार्टम 11 जून को करवाया गया, जो हैरान करने वाला है.

राज्यसभा सदस्य ने संवाददाताओं से कहा, ‘यहां तक कि सुशांत की मौत के 50 दिन से अधिक समय बाद भी, इस मामले में कोई प्राथमिकी दर्ज नहीं की गई है.’

बता दें कि सुशांत (34) का शव बांद्रा स्थित उनके आवास में 14 जून को फंदे से लटका हुआ पाया गया था. मुंबई पुलिस ने दुर्घटना से मृत्यु रिपोर्ट (एडीआर) दर्ज की थी और इसकी जांच जारी है.

वहीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य सरकार ने मंगलवार को सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई जांच की सिफारिश की है, जिसे अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के वकील ने चुनौती देते हुए कहा कि राज्य को इस तरह की सिफारिश करने का अधिकार नहीं है.

नीतीश कुमार ने ट्वीट किया, ‘राज्य सरकार ने दिवंगत सुशांत सिंह राजपूत के पिता के के सिंह द्वारा दर्ज मामले में सीबीआई जांच के लिए अपनी सिफारिश भेजी है.’

राजपूत की सनसनीखेज मौत के मामले में कानून के तहत जांच करने के अधिकार को लेकर पटना और मुंबई पुलिस के बीच खींचतान चल रही है. इस बीच नीतीश कुमार ने कहा था कि उनकी सरकार ने सुशांत के पिता की मंजूरी के बाद मामला केंद्रीय जांच एजेंसी को सौंपने का फैसला किया है.

राजपूत के पिता ने पटना में 25 जुलाई को रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ अभिनेता को खुदकुशी के लिए उकसाने के आरोप में शिकायत दर्ज कराई है.

नीतीश कुमार ने संवाददाताओं से कहा, आज सुबह ही हमारे डीजीपी (गुप्तेश्वर पांडेय) से उनकी (के के सिंह) बातचीत हुई है और उन्होंने अपनी सहमति दे दी है, जिसकी सूचना डीजीपी ने दी तथा तुरंत सीबीआई जांच के लिए अनुशंसा यहां से जा रही है. सुशांत के पिता जी ने यहां प्राथमिकी दर्ज करायी थी जिसके आधार पर बिहार पुलिस ने जांच का काम शुरू किया.’

उन्होंने कहा, ‘अब उन्होंने स्वीकृति दे दी है तो मैंने डीजीपी से आज ही सारी औपचारिकताएं पूरी करने को कहा है और सरकार आज ही सिफारिशें भेज देगी.’

नीतीश ने कहा, ‘बिहार पुलिस के साथ वहां बिल्कुल गलत व्यवहार हुआ। जहां भी प्राथमिकी दर्ज होगी, कानूनी रूप से हमारे राज्य की पुलिस की जिम्मेदारी थी और उसके हिसाब से वे जांच के लिए वहां (मुंबई) गए. वहां तो सहयोग करना चाहिए था.’

रिया चक्रवर्ती के वकील सतीश मानशिंदे ने एक बयान में कहा कि इस मामले का स्थानांतरण नहीं किया जा सकता है और इसमें बिहार पुलिस को शामिल करने का कोई कानूनी आधार नहीं है. ज्यादा से ज्यादा ‘जीरो एफआईआर’ दर्ज होगी जो मुंबई पुलिस को स्थानांतरित की जाएगी.

ये भी देखें-

Source link

Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: