Business

RBI गवर्नर ने अचानक बुलाई प्रेस क्रॉन्फ्रेंस, 10 बजे ​करेंगे ये अहम घोषणा!

Photo:PTI RBI गवर्नर शक्तिकांत दास आज कर सकते हैं अहम घोषणाएं! 10 बजे ​बुलाई प्रेस क्रॉन्फ्रेंस

देश में कोरोना संकट के बीच बुधवार को भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास बड़ी घोषणा कर सकते हैं। RBI गवर्नर आज सुबह 10 बजे मीडिया को संबोधित करेंगे। बता दें कि शक्तिकांत दास की आज की कॉन्फ्रेंस पूर्व निर्धारित नहीं है। ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि वे देश में COVID-19 की दूसरी लहर के बीच कोई बड़ी घोषणा कर सकते हैं। 

पढें–  हिंदी समझती है ये वॉशिंग मशीन! आपकी आवाज पर खुद धो देगी कपड़े

पढें–  किसान सम्मान निधि मिलनी हो जाएगी बंद! सरकार ने लिस्ट से इन लोगों को किया बाहर

हालांकि, विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोनोवायरस की बढ़ती संख्या और कई राज्यों में लॉकडाउन के बीच, आरबीआई गवर्नर लोन मोरेटोरियम, छोटे कर्जदारों के लिए एकमुश्त ऋण रिस्ट्रक्चरिंग, अतिरिक्त लिक्विडिटी राहत जैसे राहत उपायों की घोषणा कर सकते हैं। 

3 मई को दास ने एनबीएफसी-एमएफआई के प्रबंध निदेशकों और मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ बैठक की थी, जहां सभी ने इन राहत के लिए आरबीआई गवर्नर से मांग की थी। 

पढें–  SBI में सिर्फ आधार की मदद से घर बैठे खोलें अकाउंट, ये रहा पूरा प्रोसेस

पढें–  Amazon के नए ‘लोगो’ में दिखाई दी हिटलर की झलक, हुई फजीहत तो किया बदलाव

Goldman Sachs ने की भारत के वृद्धि‍ अनुमान में कटौती

अमेरिकी ब्रोकरेज फर्म गोल्डमैन सैक्स ने कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप और उसके चलते कई राज्यों तथा शहरों में लागू लॉकडाउन के मद्देनजर वित्त वर्ष 2021-22 के लिए भारत की आर्थिक वृद्धि के पूर्वानुमान को 11.7 प्रतिशत से घटाकर 11.1 प्रतिशत कर दिया है। भारत में कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर भयानक रूप ले चुकी है और इस बीमारी से अब तक 2.22 लाख लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि हर दिन संक्रमण के 3.5 लाख नए मामले सामने आ रहे हैं। इस कारण पूरे देश में सख्त लॉकडाउन की मांग भी जोर पकड़ने लगी है, हालांकि आर्थिक नुकसान को देखते हुए मोदी सरकार ने अभी तक इस कदम से परहेज किया है।

गोल्डमैन सैक्स ने एक रिपोर्ट में कहा कि लॉकडाउन की तीव्रता पिछले साल के मुकाबले कम है। फिर भी, भारत के प्रमुख शहरों में सख्त प्रतिबंधों का असर साफ दिखाई दे रहा है। शहरों में सख्त लॉकडाउन से सेवाओं पर खासतौर से असर पड़ा है। इसके अलावा बिजली की खपत, और अप्रैल में विनिर्माण पीएमआई के स्थिर रहने से विनिर्माण क्षेत्र पर असर पड़ने के संकेत भी मिल रहे हैं।

Source link

Show More

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: